अनाथ शुभी को मिले नए मम्मी-पापा, अब मैडिड्र में रहेगी; गोद में लेते ही लिपट गई

0
17

दीपक पुरी.

भरतपुर. ‘तिनके को सहारा मिले, कश्ती को किनारा मिले, एक उम्मीद की किरण अभी जिंदा है दिलों में कि हर अनाथ बच्चे को घर एक प्यारा मिले’ यह खूबसूरत कहानी भरतपुर में शुक्रवार को चरितार्थ हुई. भरतपुर के पालना गृह में छोड़ी अनाथ बालिका शुभी को सहारा मिला है. स्पेन के रहने वाले दंपति ग्रेविलियर और मारिया ने 3 वर्षीय बालिका शुभी को गोद लिया है. केंद्र सरकार की योजना कारा के तहत बाल कल्याण समिति ने जिला कलेक्टर की मौजूदगी में बालिका को दोनों को सुपुर्द किया. शुभी को लेकर स्पेन दंपति ग्रेविलियर और मारिया स्पेन के लिए रवाना हो गए. भरतपुर के राजकीय बालिका गृह के बाहर पालनाघर में लावारिस हालत में यह बच्ची मिली थी. तभी बाल कल्याण समिति ने उस बच्ची को बालिका गृह में रखा हुआ था. उसका नामकरण करके नाम शुभी रखा गया.

अगस्त 2021 को दिल्ली में स्थित केंद्रीय कारा योजना के तहत बाल कल्याण समिति को सूचना मिली कि बालिका शुभी को स्पेन के दंपत्ति को गोद दे दिया गया है. आज स्पेन दंपत्ति ग्रेवीलियर और मारिया भरतपुर पहुंचे, जहां कलेक्ट्रेट कार्यालय मे जिला कलेक्टर की मौजूदगी में शुभी को स्पेन दंपत्ति के सुपुर्द किया गया. स्पेन दंपति बालिका को देख काफी खुश नजर आया. शुभी अपना जीवनयापन मैडिड्र में व्यतीत करेगी. गोद में लेती ही शुभी अपनी नई मां से लिपट गई. इस दौरान स्पेन दंपत्ति ग्रेवीलियर और मारिया भी बहुत खुश नजर आए. उन्हें इंडियन कल्चर से काफी लगाव है.

आपके शहर से (भरतपुर)

सबसे बड़ी बात तो यह है कि स्पेन दंपत्ति पहले भी भारत से एक बच्ची को गोद ले चुके हैं. उन्होंने उड़ीसा से एक बच्ची को 5 साल पहले गोद लिया था और उसके बाद फिर से एक बच्ची को गोद लेने के लिए आवेदन किया. अब स्पेन दंपत्ति ग्रेविलियर और मारिया स्पेन के लिए रवाना हुए हैं. जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय में कलेक्टर आलोक रंजन की देखरेख में एडॉप्शन प्रोसेस किया गया.

Tags: Bharatpur News, Rajasthan news