इंदौर : नाइट कल्चर का विरोध, लोगों ने कहा-रात में बाजार खुलने के नाम पर अश्लीलता मंजूर नहीं

0
13

इंदौर. मध्य प्रदेश के जिस शहर में सबसे पहले नाइट कल्चर शुरू हुआ था वहीं अब इसका विरोध होने लगा है. पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के बाद अब आम जनता और खास लोग भी इसे बंद करने की मांग करने लगे हैं. इंदौर के लोग नाइट क्लब और पब की आड़ में रात में होने वाला हुड़दंग और अश्लीलता नहीं चाहते.

प्रदेश का सबसे पहला शहर इंदौर था जहां सबसे पहले नाइट कल्चर की शुरुआत की गई थी. रात भर बाजार खुले रखे जाते हैं. लेकिन इसकी आड़ में नाइट क्लब और पब भी खुले रहने लगे हैं. इससे अपराध और अश्लीलता बढ़ने लगी. इसलिए नाइट कल्चर का विरोध शुरू होने में भी देर नहीं लगी. बीजेपी नेता और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कांग्रेस नेत्रियों और समाज सेवियों के साथ पुलिस कमिश्नर से मिलकर इसकी शिकायत भी की थी. उसके बाद अब अलग अलग संगठन  इसका विरोध कर रहे हैं.

रात में भी शहर खुला
इंदौर को 24 घंटे खुला रखना और कुछ हिस्सों में लगातार काम करने का प्लान इंदौर शहर में ही बनाया गया था. स्टार्टअप्स के एक बड़े कार्यक्रम में मंच से ही सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इसकी घोषणा की थी. शहर को 24 घंटे खुला रखा जाए, इससे उद्योगों को लाभ होगा. प्रशासन ने मध्य प्रदेश शासन को प्रपोजल बनाकर भेजा था. इसे कुछ समय पहले लागू कर दिया गया. देवास नाका से राजीव गांधी प्रतिमा तक के 100 मीटर के दायरे में आने वाले दुकान दफ्तर खुले रखने की छूट दी गयी थी. हालांकि इस वक़्त आगामी कुछ दिनों तक आवश्यक सुझाव भी आमंत्रित किये गए थे.

आपके शहर से (इंदौर)

मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश

ये भी पढ़ें-2023 में आदिवासी सीटों का अंतर कम कर पाएगी बीजेपी? क्या हैं राष्ट्रपति के शहडोल दौरे के सियासी मायने ?

सड़कों पर हुड़दंग और अश्लीलता
कुछ दिन तक सामान्य तरीके से चले नाइट कल्चर के बाद कुछेक इक्का दुका दुष्परिणाम देखने को मिले. इसमें रात के वक़्त अक्सर नशे में धुत युवक युवती, झगड़े, मारपीट और विवाद शामिल हैं. युवक युवतियों के बीच मारपीट तो सरेराह युवक युवतियों के नशे में अश्लील हकरत के वीडियो वायरल हुए थे. आम लोगों का दावा है कि पहले रात में बाजार बंद हो जाता था. तो लोग अपने घरों में चले जाते थे. लेकिन बाजार और दुकानें खुलने से कुछ लोग रात भर सड़कों पर घूमते रहते हैं. हंगामा हुड़दंग करते रहते हैं.

सबने किया विरोध
अचानक कुछ ही दिनों में वायरल हुए वीडियो के आधार पर कई अलग अलग समाज सेवी  संगठनों ने मोर्चा खोला. अभ्यास मंडल के मंच  पर सभी ने एक स्वर में बेबाकी से कहा संस्कारित शहर इंदौर को बिगड़ने नहीं देंगे. नशे के कारोबार और  पब संस्कृति पर नकेल कसी जाएगी. खुद सुमित्रा महाजन, समेत पद्मश्री पुरुस्कार प्राप्त जनक पलटा कमिश्नर से मिलकर इसका विरोध कर चुकी हैं.

हालात पर नजर
इंदौर कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्रा ने कहा यह व्यवस्था देश के कुछ शहरों में लागू है. इसमें कई चुनौतियां सामने होती हैं. इसकी आड़ में कई बार कुछ आवंछित लोग भी बाहर आ जाते हैं. लेकिन पुलिस को निर्देश है कि नाइट कल्चर की आड़ में कोई इसका फायदा न उठाए. उन पर सख्त कार्रवाई हो. अतिरिक्त पुलिस बल और भ्रमण के लिए निर्देश है. धीरे धीर व्यवस्था सामान्य हो जाएगी. पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू होने के बाद से अब तक कोई अतिरिक्त पुलिस बल नहीं प्राप्त हुआ है, फिर भी जो साधन और संसाधन हैं उनका ही उपयोग कर बेहतर काम करना है.

Tags: Indore news. MP news, Madhya pradesh latest news