पुलिस भर्ती पेपर लीक केस: जांच शुरू करने से पहले CBI को कोर्ट से लेनी होगी मंजूरी

0
27

हाइलाइट्स

हिमाचल पुलिस और सीआईडी से पूरे मामले का रिकार्ड और स्टेट्स रिपोर्ट मांगी.
हिमाचल समेत देश के अलग-अलग हिस्सों से 183 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

शिमला. हिमाचल प्रदेश के बहुचर्चित पुलिस कॉन्सटेबल भर्ती पेपर लीक मामले में सीबीआई जांच की सुगबुगाहट शुरू हो गई है. सूत्रों के अनुसार ये सुगबुगाहट उस पत्र से शुरू हुई है, जिसमें सीबीआई ने हिमाचल पुलिस और सीआईडी से पूरे मामले का रिकार्ड और स्टेट्स रिपोर्ट मांगी है. सूत्र बता रहे हैं कि इस मामले की जांच अगर सीबीआई शुरू करती है तो पुलिस अधिकारी सीबीआई के निशाने पर रहेंगे.
जांच की सूई सबसे पहले अधिकारियों पर घूमेगी.

सीबीआई के पत्र को लेकर हालांकि पुलिस मुख्यालय से किसी अधिकारी की तरफ से कुछ नहीं कहा गया है. मई महीने जब ये मामला सामने आया था तो उस वक्त सीएम जय राम ठाकुर ने सीबीआई जांच की सिफारिश करने की बात कही थी, लेकिन अब तक सीबीआई की ओर से इस मामले में कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है. सरकार की ओर से गठित एसआईटी मामले की जांच कर रही है.

पूरे मामले पर कांगड़ा जिले के गग्गल पुलिस थाना, सोलन जिले के अर्की थाना और शिमला के भराड़ी स्थित सीआईडी थाने में मामला दर्ज है. एसआईटी अब तक हिमाचल समेत देश के अलग-अलग हिस्सों से 183 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है और कई आरोपियों के खिलाफ अदालत में चार्जशीट दाखिल की गई है. इस मामले की जांच अब भी जारी है. ये मामला जब सामने आया था तो उस वक्त सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिमाचल हाई कोर्ट में अधिवक्ता विनय शर्मा ने याचिका दायर की थी.

आपके शहर से (शिमला)

हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश

क्या कहते हैं वकील विनय शर्मा
विनय शर्मा का कहना है कि मामले की जांच शुरू करने से पहले सीबीआई को अदालत से अनुमति लेनी पड़ेगी. उन्होंने कहा कि जिस अदालत में चार्जशीट दाखिल की गई है. उस अदालत से सीबीआई को मामले की आगामी जांच की अनुमति लेनी पड़ेगी. उन्होंने, कहा कि हालांकि चालान पेश हो गया है, लेकिन मामले की जांच जारी है तो सप्लीमेंटरी चालान भी पेश किया जाता है. विनय शर्मा का ये भी कहना है कि इस मामले में अब तक वहीं लोग पकड़े गए हैं, जिन्होंने या तो पेपर बेचा है या जिन्होंने खरीदा है या बीच में जो दलाल थे, जिन लोगों ने पेपर लीक किया है वो लोग अभी पकड़े नहीं गए हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस मुख्यालय में पेपर को लेकर जिन अधिकारियों की कमेटी बनाई गई थी, उन्हें ही पेपर संबंधी हर चीज का पता था.

क्या है पूरी भर्ती
बता दें कि महिला और पुरुष वर्ग में पुलिस कांस्टेबल के 1334 पदों के लिए 27 मार्च को लिखित परीक्षा आयोजित की गई थी, जिसमें 75,803 परीक्षार्थियों ने हिस्सा लिया था. 5 अप्रैल को परीक्षा परिणाम आया था. पेपर लीक होने के कारण परीक्षा रद्द कर नए सिरे से करवाई गई थी. इस मामले पर सीएम जय राम ठाकुर ने 17 मई सीबीआई जांच की सिफारिश करने का एलान किया था. हालांकि, इन पदों को अब भर दिया गया है.

Tags: CBI investigation, CBI Raid, Himachal Police, Shimla News