बच्चों के स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहा है जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण, 50 करोड़ बच्चे हीटवेव से हैं प्रभावित

0
27

हाइलाइट्स

जलवायु परिवर्तन की वजह से सदी के मध्य तक हर साल करीब 2 अरब बच्चे हीट वेव की चपेट में आ जाएंगे.
पांच साल से कम उम्र के बच्चों में दस में से एक मौत के लिए वायु प्रदूषण जिम्मेदार है.

Impact Of Climate Change on Childrens Health: जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण मौजूदा समय में दुनिया की कुछ बड़ी समस्याओं में एक है. मौसम में तेजी से हो रहे बदलाव इसका ही नतीजा है. जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण ने मानव स्वास्थ्य पर बुरा असर डाला है. अब बच्चे भी इससे बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं. एक्सपर्ट की मानें तो जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण की वजह से डेंगू, मलेरिया, ब्रेन फीवर, डायरिया जैसी बीमारियों ने तेजी से अपने पैर पसारे हैं.

ओनली माय हेल्थ की खबर के अनुसार जलवायु परिवर्तन और तेजी से फैलते प्रदूषण से सबसे ज्यादा खतरा महिलाओं, बच्चों और विकलांग लोगों को है. यूनिसेफ की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक जलवायु परिवर्तन बच्चों के जीवत रहने उनके शारीरिक विकास और क्षमता को विकसित करने के लिए सीधे तौर पर एक बड़ा खतरा है.

50 करोड़ बच्चे हीटवेव से हैं प्रभावित
जलवायु परिवर्तन से बच्चों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर यूनिसेफ ने अपनी एक रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा किया है. रिपोर्ट के मुताबिक हीटवेव से मौजूदा समय में करीब 50 करोड़ बच्चे प्रभावित हैं और सदी के मध्य तक हर साल करीब 2 अरब बच्चे इसकी चपेट में आ जाएंगे.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट की मानें तो, दुनिया में लगभग 93% बच्चे, 15 वर्ष से कम उम्र के (1.8 अरब बच्चे) वायु प्रदूषण में सांस लेते हैं जो उनके स्वास्थ्य और विकास के लिए एक बड़ा जोखिम है. भारत के लिए और अधिक चिंता की बात है क्योंकि 2019 विश्व वायु गुणवत्ता रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के 30 में से 21 सबसे प्रदूषित शहर भारत में हैं.

World Diabetes Day: मधुमेह रोगियों को संतरा खाना चाहिए या नहीं, जानें इसके फायदे और नुकसान

क्लाइमेट चेंज एंड हेल्थ की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा
क्लाइमेट चेंज एंड हेल्थ की 2021 की रिपोर्ट में एक हैरान करने वाली बात सामने आई है. इसके अनुसार 2030 से 2050 के बीच हर साल दुनिया में 2.5 लाख अतिरिक्त मौतें सिर्फ इस जलवायु परिवर्तन से होने वाली बीमारियों से होगी. जलवायु परिवर्तन से सिर्फ मौसम को ही नुकसान नहीं पहुंचा है, बल्कि अब इसका असर हमारे भोजन पर भी दिखने लगा है. क्लाइमेट चेंज की वजह से चावल, दाल, गेंहू और सब्जियों में कैल्शियम, जिंक और आयरन जैसे पोषक तत्वों की तेजी से गिरावट आती जा रही है.

बच्चों को क्यों है अधिक जोखिम
बच्चे वयस्कों की तुलना में वायु प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं क्योंकि उनके सभी अंग विकाशील अवस्था में होते हैं और प्रतिरक्षा प्रणाली भी कमजोर होती है. यही वजह से बदलते मौसम में बच्चे सबसे अधिक प्रभावित होते हैं. बच्चों के विकास के लिए विटामिन्स और मिनरल्स की जरूरत होती है लेकिन जब अनाज से पोषक तत्वों की कमी हो रही है तो पेट भर भोजन करने के बाद भी बच्चों को पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पातें जो सीधे पर मानसिक और शारीरिक विकास पर असर डालता है.

यूरिक एसिड की समस्या को दूर करने में बहुत मददगार है नारियल पानी, जानें इसके फायदे

बच्चों के स्वास्थ्य और विकास पर जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण का प्रभाव
जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण के कारण वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा काफी बढ़ी है. इसके परिणाम स्वरूप हीटवेव की समस्या बढ़ी है, बढ़ा का जोखिम पहले से कई गुना बढ़ गया है, हवा की गुणवत्ता में गिरावट, मीठे पानी की आपूर्ति में कमी आई है और संक्रामक रोगों का प्रसार भी तेजी से हुआ है. ये सभी समस्याएं बच्चों के विकास को सीधे तौर पर नुकसान पहुंचाती हैं.

मौजूदा समय में बच्चों के स्वास्थ्य के लिए वायु प्रदूषण सबसे बड़ा खतरा है. यह पांच साल से कम उम्र के बच्चों में दस में से एक मौत के लिए जिम्मेदार है. इससे बच्चों में अस्थमा, बच्चों की दुर्दमता, हृदय रोग जैसी पुरानी बीमारियों, फेफड़ों की खराबी, निमोनिया और बच्चों में स्टंटिंग का खतरा बढ़ जाता है. वायु प्रदूषण से बच्चों के न्यूरोडेवलपमेंट और संज्ञानात्मक क्षमता भी प्रभावित होती है.

बच्चों के स्वास्थ्य के लिए प्रमुख खतरे
दुनिया भर के बच्चें बढ़ते वायु प्रदूषण से बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं. भारत के साथ-साथ साथ कई विकसित देशों के लिए प्रदूषण एक बड़ी समस्या बन चुका है. वायु प्रदूषण की वजह से बच्चों को कई तरह की बीमारियां होने का खतरा बना रहता है.

  • सांस संबंधी बीमारियां
  • गर्मी की बीमारियां
  • पानी से संबंधित बीमारियां
  • कीट- और टिक-संबंधी रोग
  • पाचन शक्ति हो रही प्रभावित प्रभाव
  • मानसिक स्वास्थ्य बुरा प्रभाव

Tags: Air pollution, Climate Change