बाड़मेर की बेटी ने कॉन्स्टेबल परीक्षा में टॉप कर बढ़ाया मान, सफलता के पीछे मां की भूमिका

0
13

बाड़मेर. राजस्थान के बाड़मेर जिले की एक बेटी ने अपनी मेहनत और लगन से कामयाबी के झंडे गाड़े हैं. हाल ही में जारी हुए कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा में टॉप कर बाड़मेर के नेतराड़ गांव की गुंजन चौधरी ने जिले का नाम रोशन किया है. वर्ष 2008 में एक सड़क दुर्घटना में अपने पिता को खो चुकी गुंजन की मां कमला देवी ने सिलाई-कढ़ाई कर के पाई-पाई इकट्ठा कर बेटी को पढ़ने और कुछ बनने के सपने के साथ बाड़मेर शहर भेजा था. प्रतिदिन आठ से दस घंटे पढ़ने वाली गुंजन ने एक साथ पांच जगह से राजस्थान पुलिस कॉन्स्टेबल की परीक्षा दी थी.

परीक्षा का परिणाम के आने पर गुंजन की चर्चा पूरे राजस्थान में हो रही है. गुंजन ने राजस्थान पुलिस के आरएसी में राजस्थान भर में टॉप किया है. गुंजन ने भीलवाड़ा जिले में भी टॉप किया है. साथ ही जोधपुर आयुक्तालय में उसने तीसरा स्थान हासिल किया है.

गुंजन ने एक नहीं दो नहीं बल्कि तीन-तीन जगहों पर चयनित होकर अपना और बाड़मेर जिले का नाम रोशन किया है. गुंजन के सिर से बचपन में पिता का साया उठ गया था. मां कमला देवी ने सिलाई-कढ़ाई कर गुंजन को पढ़ाया. अब कामयाबी मिलने पर उसके पूरे परिवार में खुशी की लहर है. गुंजन के भीलवाड़ा पुलिस में पहली रैंक हासिल करने, जोधपुर आयुक्तालय में तीसरी रैंक पर रहने और RAC में भी प्रथम रैंक हासिल करने के बाद इलाके में खुशी की लहर है.

गुंजन की इस सफलता पर उसके दादा अचलाराम, चाचा पीराराम, मामा ठाकराराम फौजी, चौहटन अध्यक्ष ईश्वर सेवर, लक्ष्मण कड़वासरा सहित कई लोगों ने खुशी जाहिर करते हुए इसे अन्य लड़कियों और बेटियों के लिए प्रेरणास्रोत बताया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 16, 2022, 17:17 IST