बिलासपुर में ‘पुष्पा’ की एंट्रीः आधी रात को चंदन के पेड़ों पर चली कुल्हाड़ी, FIR

0
13

हाइलाइट्स

वन विभाग के कर्मचारियों ने मौके से कटे पेड़ों की लकडी बरामद की.
आधी रात को काट रहे थे लकड़ी, बाद में वन काटू भागने में कामयाब रहे.

बिलासपुर. हिमाचल प्रदेश में भी अब चंदन तस्करों ने अपनी सरगर्मी बढ़ा दी है. बिलासपुर में  तस्करों की बुरी नजर  चन्दन के पेड़ों पर पड़ चुकी है. इससे पूर्व भी तस्कर चंदन के पेड़ों को कई बार रात के अंधेरे निशाना ना चुके हैं. अब ताजा मामला सामने आया है.

जानकारी के अनुसार, बिलासपुर शहर के साथ लगती ग्राम पंचायत ओयल के समीप जंगल से  रात को वन काटूओं ने  चंदन के आठ पेड़ काट डाले. वन विभाग ने मौके पर चंदन की लकड़ी बरामद कर ली है तथा पुलिस में मामला दर्ज करवाया  है, लेकिन आरोपियों को कुछ पता नहीं चला है.

दरअसल, आधी रात को दो बजे प्रकाश नाम के एक व्यक्ति ने अपने घर के समीप जंगल में पेड़ कटने की आवाज सुनी. प्रकाश ने इस संबध मे तुरन्त पंचायत प्रधान दिनेश कुमार को सूचित किया. पंचायत प्रधान दिनेश कुमार ने इस संबंध में तुरंत पुलिस व विभाग के अधिकारियों को सूचित किया. सूचना मिलते ही वन विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचे और वन विभाग के कर्मचारियों ने मौके से कटे पेड़ों की लकड़ी बरामद की. लेकिन इस दौरान वन काटू भागने में कामयाब रहे. गौरतलब है कि बिलासपुर शहर के चंगर सेक्टर के साथ लगते चंदन वन में पहले भी कई बार पेड़ कटने के मामले सामने आ चुके हैं.

ग्राम पंचायत प्रधान दिनेश कुमार ने कहा कि उन्हें गत रात्रि करीब दो बजे प्रकाश नाम के एक व्यक्ति ने अपने घर के समीप जंगल में पेड़ कटने की सूचना दी. उन्होंने तुरंत पुलिस और वन विभाग को सूचित किया. उन्होंने बताया कि वन विभाग की टीम तो मौके पर पहुंच गई, लेकिन पुलिस टीम समय पर नहीं पहुंची. उन्होंने पुलिस विभाग से इस क्षेत्र में गश्त बढाने की मांग की है. इस संबंध में बिलासपुर के डीएफओ अवनि भूषण ने दूरभाष पर मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि गत रात्रि ग्राम पंचायत ओयल के समीप जंगल से चंदन के आठ पेड़ काटे  गए हैं, जिनमें से तीन पेड़ छोटे थे. वह पेड़ की श्रेणी में नहीं आते  हैं. विभाग की टीम ने मौके पर चंदन की कटी लकड़ी बरामद कर ली है तथा पुलिस में मामला दर्ज करवाया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 16, 2022, 09:44 IST