बीजेपी के सांसद ने सरकार से मांगी नेपाली बीयर बेचने की इजाजत, पढ़िए पूरी खबर

0
11

इंदौर. मध्यप्रदेश में शराबबंदी को लेकर राजनीतिक पारा चढ़ा हुआ है. पूर्व सीएम उमा भारती शराबबंदी के लिए अभियान छेड़े हुए हैं. लेकिन इस बीच इंदौर सांसद ने अजब मांग कर डाली है. उन्होंने सरकार को नेपाली बीयर बेचने की सलाह दे दी है. सांसद महोदय ने इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है.

इंदौर सांसद शंकर लालवानी की एक मांग ने प्रदेश में नशाबंदी की सियासत को नयी हवा दे दे दी है. लालवानी ने मध्यप्रदेश में नेपाली बीयर की बिक्री की अनुमति मांगी है. उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है. राज्य सरकार की हैरिटेज शराब नीति से प्रभावित होकर बीजेपी सांसद शंकर लालवानी ने नेपाली बीयर को नई शराब नीति में शामिल करने की मांग की है. वे दलील दे रहे हैं कि नेपाली बीयर पारंपरिक द्रव्य है,जो फूलों और जड़ी बूटियों से बनती है. इसे वे सदियों से लेते आ रहे हैं. लेकिन आबकारी विभाग की वजह से वे उसे यहां ना बना पाते हैं ना ला पाते हैं. इसलिए इसे नई शराब नीति में जोड़ दिया जाए,जिससे इस वर्ग के लोगों को विधिमान्य तरीके से इसके निर्माण और व्यापार की अनुमति मिल सके.

नेपाली संस्कृति परिषद ने की मांग

सांसद ने कहा नेपाली संस्कृति परिषद के राष्ट्रीय सचिव शैलेष गुरंग के नेतृत्व में नेपाली समाज के लोग उनसे मिलने आए थे. उन्होंने कहा था नई आबकारी नीति में जिस तरह आदिवासी स्व-सहायता समूह की बनायी महुआ शराब शामिल की गयी है, ठीक उसी तरह नेपाली बीयर को शामिल किया जाए. शंकर लालवानी ने कहा उनका पत्र मैंने फारवर्ड किया था. अब सरकार इस पर निर्णय लेगी.

कांग्रेस ने कहा-यही है बीजेपी की असलियत

सांसद शंकर लालवानी के नेपाली बीयर की अनुमति के पत्र पर कांग्रेस ने इसे बीजेपी का दोहरा चरित्र बताया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता नीलाभ शुक्ला का कहना है सांसद के पत्र से बीजेपी का शराब प्रेम उजागर हो गया है. पूर्व सीएम उमा भारती की प्रदेश में शराब बंदी को लेकर लगातार बयानबाजी भी महज दिखावा है. शराब बंदी और नशा मुक्ति को लेकर भाजपा सरकार का जनजागरण अभियान भी महज़ दिखावा है. सांसद के पत्र के बाद शराबबंदी को लेकर बीजेपी का असली चेहरा जनता के सामने आ गया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 16, 2022, 10:22 IST