भागलपुर: प्रिंसिपल नहीं बता पाए एलिफेंट और ऑरेंज की स्पेलिंग तो BDO हुए लाल-पीले, Video Viral

0
16

रिपोर्ट : शिवम कुमार सिंह

भागलपुर. ये जनाब पेशे से शिक्षक हैं और सरकारी स्कूल के हेड मास्टर भी. उम्र रिटायरमेंट की है, सो लगता है कि अब इसका असर भी इन पर दिखने लगा है. अपने सेवाकाल में इन्होंने दर्जनों बार बड़े-बड़े पदाधिकारियों का निरीक्षण फेस किया होगा, लेकिन तब क्या हुआ होगा भगवान जाने. बुधवार को तो वे महज अपने ब्लॉक के प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) के निरीक्षण के दौरान सबकुछ भूल चुके थे. न ऑरेंज की स्पेलिंग मालूम थी न एलिफेंट की. गणित का साधारण सा टर्म ‘भाग’ भी वे भूल चुके थे. जब इन्हें 50 को 2 से भाग देने पर आने वाला भागफल बताने को कहा गया, तो वे इधर-उधर झांकने लगे. जी हां! हम बात कर रहे हैं भागलपुर जिले के नवगछिया प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय चांय टोला खैरपुर कदवा की, जहां के हेडमास्टर हैं पवन कुमार.

दरअसल, बुधवार को नवगछिया के बीडीओ गोपाल कृष्णन कोसी पार के पंचायत खैरपुर कदवा का निरीक्षण करने गए हुए थे. इस दौरान वे यहां के प्राथमिक विद्यालय चले गए. जैसे ही स्कूल घुसे की कार्यालय कक्ष के ऊपर लिखा ‘कार्यलल’ देखकर वे भड़क उठे. बीडीओ समझ गए कि इस स्कूल में पठन-पाठन ठीक से नहीं हो रहा होगा. इसके बाद उन्होंने हेडमास्टर पवन कुमार को बुलाया और उनसे उनका नाम पूछ लिया. जनाब अपना नाम तक ठीक से नहीं बता पाए. फिर उनसे ऑरेंज और एलिफेंट की स्पेलिंग बोलने को कहा गया. मास्टर साहब इसमें भी फेल हो गए. जब पूछा गया कि कार्यालय शब्द क्यों गलत लिखा हुआ है तो कहने लगे किसी छात्र ने गलत लिख दिया है, इसे ठीक करवा लेंगे.

स्कूल में रखी थी खाद

इस स्कूल की कुव्यवस्था का आलम यह था कि बीडीओ के निरीक्षण के दौरान एक कमरे में उन्हें खाद मिली. अब बीडीओ और हेडमास्टर की बातचीत का वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इसे देख लोग यही कह रहे हैं कि बिहार के सुदूर ग्रामीण इलाके में सरकारी स्कूलों की पठन-पाठन की व्यवस्था की यही सचाई है. शिक्षक खुद ठीक से कुछ नहीं जानते हैं, तो वह बच्चों को क्या पढ़ा पाते होंगे? बीडीओ गोपाल कृष्णन कहते हैं कि वे अब इस स्कूल की कुव्यवस्था की पूरी रिपोर्ट बनाकर वरीय पदाधिकारियों को सौंपेंगे.

Tags: Bhagalpur news, Bihar News, Government School