भीलवाड़ा में बदहाली पर आंसू बहा रहा ‘नेकी की दीवार’, 5 में से 4 दीवार हुआ बंद

0
18

रवि पायक

भीलवाड़ा. राजस्थान के भीलवाड़ा शहर में नगर विकास न्यास की ओर से नेकी की दीवार बनाई गई थी. खानाबदोश, बेसहारा और गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वालों के लिए जरूरत के सामान नि:शुल्क उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से यह नेकी की दीवार बनाई है. लोगों ने यहां घरेलू सामग्री डालनी शुरू कर दी, लेकिन यह कपड़े धूल मिट्टी से सन गये और उनकी दुर्दशा होने लगी. भीलवाड़ा में पांच नेकी की दीवार हैं जिसमें से चार को लोगों की लापरवाही के चलते जल्द ही बंद कर दिया गया. मगर ग्राम पंचायत सुवाणा में अब भी एक नेकी की दीवार बनी हुई है. ग्रामीणों ने यहां पुराने कपड़े सुनियोजित ढंग से टांग रखे हैं जो अपने आप में शहरी क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए एक सीख है.

दरअसल जो लोग कपड़े खरीदने में सक्षम नहीं हैं या जो गरीबी रेखा से नीचे वर्ग के आते हैं उनके लिए भीलवाड़ा में एक मुहिम चलाई गई थी जिसको नेकी की दीवार कहा गया था. लोग अपने पुराने कपड़े जो अब उनके काम में नहीं आ रहे थे, उसको नेकी की दीवार पर टांग जाते थे और जरूरतमंद लोग उसको अपने काम में ले लेते थे. आदान-प्रदान का यह क्रम चलता रहा और इस नेकी की दीवार ने दूर-दूर तक अपना नाम कमाया. मगर बीतते समय के साथ नेकी की दीवार की चमक फीकी पड़ती गई. लोग अपने पुराने कपड़ों के साथ वहां कूड़ा-कचरा भी डालने लग गए. यही नहीं, वो ऐसे कपड़े डालने लग गए जो बिल्कुल पहनने लायक नहीं थे. यह देखकर नगर विकास न्यास, जिसने नेकी की दीवार को एक उद्देश्य से शुरू किया था, उसने अपने पैर पीछे खींच लिया और उसको बंद कर दिया.

भीलवाड़ा में पांच में से चार ‘नेकी की दीवार’ बंद 

भीलवाड़ा में पांच में से चार नेकी की दीवार बंद हो गई, मगर शहर के निकटवर्ती सुहाना ग्राम पंचायत समिति के बाहर स्थित नेकी की दीवार आज भी बदस्तूर जारी है. यहां ग्रामीण नियोजित तरीके से पुराने कपड़े वहां टंगा कर जाते हैं. साथ ही यहां साफ-सफाई भी रखी जाती है.

सुहाना ग्राम पंचायत निवासी श्यामा देवी का कहना है कि शहरवासी ग्रामीणों को ज्यादातर गरीब और अपने से छोटा समझते हैं, लेकिन हमारी पंचायत समीति के लोगों ने नेकी की दीवार के माध्यम से एक संदेश दिया है कि ग्रामीण शहरी लोगों से किसी बात में पीछे नहीं है. हमारे यहां नेकी की दीवार के माध्यम से जरूरतमंदों की मदद ही नहीं की जा रही, बल्कि सर्दी को ध्यान में रखते हुए बेसहारा लोगों के रहने के लिए भी हम प्रबंध कर रहे हैं.

Tags: Bhilwara news, Donation, Poor family, Rajasthan news in hindi