माफिया पर लगाम नहीं : श्योपुर में नहीं रुक रहा अवैध खनन, धमाकों से स्कूल की बिल्डिंग में दरार

0
15

श्योपुर. श्योपुर में भी अवैध खनन पूरे जोर शोर से बेरोक टोक जारी है. मुख्यालय की मोरडोंगरी नदी में खुलेआम अवैध पत्थर खदानें चलाई जा रही हैं. पत्थर माफिया अवैध खदानों में डायनामाइट लगाकर दिनभर ब्लास्टिंग करते हैं. इससे स्कूल और छात्रावासों की दीवारों में दरार आ रही है. यहां बच्चों पर दिनभर खतरा बना रहता है. फिर भी प्रशासन इस पर कार्रवाई नहीं कर रहा है.

श्योपुर जिले की मोरडोंगरी नदी में अवैध पत्थर खदानें चलाई जा रही हैं. इन खदानों से पत्थर तोड़ने के लिए माफिया डायनामाइट लगाकर दिनभर ब्लास्टिंग करते हैं. धमाकों की आवाज आधे से ज्यादा शहर में सुनाई देती हैं. यहां से महज 500 मीटर की दूरी पर कलेक्ट्रेट कार्यालय है. लेकिन यह ब्लास्टिंग शायद जिम्मेदारों को सुनाई नहीं दे रही है. इस नदी में एक भी वैध पत्थर खदान की लीज नहीं है. इसके बावजूद भी यहां दर्जन भर से ज्यादा अवैध पत्थर खदानें खुलेआम चलाई जा रही हैं. इन हालातों में नदी के पास स्टेट स्कूल और छात्रावासों की बिल्डिंग में दरारें पड़ने लगी है. बच्चों को भी खतरा बना रहता है.

ब्लास्टिंग से स्कूल और हॉस्टलों की दीवारों में पड़ी दरारें 
इस ब्लास्टिंग के दौरान कई बार स्कूल और छात्रावासों तक पत्थरों के टुकड़े पहुंच जाते हैं. इस मामले पर कलेक्टर शिवम वर्मा ने बीते 6 महीने पहले इन अवैध खदानों की जांच करवा कर कार्रवाई करने की बात कही है, लेकिन अभी तक कार्रवाई तो दूर जांच भी शुरू नहीं हो सकी है. मोरडोंगरी नदी में रोजाना हो रही ब्लास्टिंग और धमाकों की गूंज से स्कूल और छात्रावासों की बिल्डिंग कांप उठती हैं. ब्लास्टिंग के दौरान पत्थरों के टुकड़े स्कूल तक पहुंच जाते हैं इससे हादसा होने का खतरा बना रहता है. नदी किनारे बने हुए कलारना छात्रावास के रसोईया ब्रह्मानंद का कहना है सुबह से शाम तक नदी में हर आधे से 1 घंटे में ब्लास्टिंग होती रहती है.

ये भी पढ़ें-राहुल गांधी के बाद गुजरात के रण में एमपी के नेताओं की एंट्री, स्टार प्रचारकों में दिग्विजय कमलनाथ शामिल

प्रशासन मौन
यह मामला कलेक्टर के संज्ञान में है लेकिन प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है. सवाल उठ रहे हैं कि आखिर ऐसी क्या मजबूरी है कि सुबह से शाम तक हो रही ब्लास्टिंग रोकने और अवैध खदानों पर कार्रवाई करने की जहमत तक नहीं उठाई जा रही है. यह देखना होगा कि आखिरकार राज्य स्तर के अधिकारी इस पर क्या एक्शन लेते हैं .

Tags: Madhya pradesh latest news, Madhya pradesh news, Madhya Pradesh News Updates, Sheopur news