राजस्थान: चाची के गहनों पर थी 2 भतीजों की नजर, अकेली देखकर मार डाला और फिर…

0
29

हाइलाइट्स

भीलवाड़ा के मांडल कस्बे की है घटना
भतीजों की चाची के परिवार से रंजिश भी थी
पुलिस ने एक आरोपी किया गिरफ्तार, दूसरे की तलाश जारी

राहुल कौशिक.

भीलवाड़ा. राजस्थान में एक बार फिर से रिश्तों को तार-तार करने का मामला सामने आया है. राजस्थान के भीलवाड़ा (Bhilwara) जिले के मांडल थाना इलाके में दो युवकों ने मिलकर अपनी वृद्ध चाची का गला दबाकर मौत (Murder) के घाट उतार दिया. हत्या को अंजाम देने वाले इन भतीजों की नजर अपनी चाची के गहनों पर थी. वहीं उनकी चाची के परिवार से पुरानी रंजिश भी सामने आई है. पुलिस ने आरोपियों में एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. दूसरे की तलाश की जा रही है. पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है.

मांडल थानाप्रभारी विनोद कुमार मीणा ने बताया कि इलाके के गणेशपुरा गांव में वृद्धा सोहनी देवी की 11 नवंबर को हत्या कर दी गई थी. सोहनी देवी का शव उसके कमरे में पड़ा मिला था. सोहनी देवी अकेली रहती थी. सोहनी देवी के पड़ोस में रहने वाले उसके पोते ने अपनी दादी को आखिरी बार 10 नवंबर की शाम को देखा था. हत्या के बाद सोहनी देवी के घर से आभूषण चोरी कर लिए गए थे. इस पर परिजनों ने चोरी के बाद वृद्धा की हत्‍या की आशंका जताई थी.

दोनों भतीजे अंतिम संस्‍कार में भी नहीं पहुंचे थे
बकौल थानाप्रभारी जब मामले की जांच शुरू की गई तो सामने कि सोहनी देवी के और उसके जेठ रामलाल बैरवा के बीच आपसी रंजिश होने की बात सामने आई. इसके चलते उनके बीच कई बार झगड़े भी हो चुके थे. मामले की परतें खुलीं तो पता चला कि रामलाल बैरवा के दो बेटे कन्हैयालाल और शंकरलाल वृद्धा की हत्‍या के बाद से ही दिखाई नहीं दिए हैं. वे दोनों उसके अंतिम संस्‍कार में भी नहीं पहुंचे.

पुलिस ने पकड़कर पूछताछ की तो उगला सच
इस पर पुलिस को उन पर संदेह हुआ. पुलिस ने शक के आधार पर दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सच्चाई सामने आ गई. उन दोनों की नजरें वृद्धा के रुपये और जेवरात पर थी. सोहनी देवी उनको कुछ भी नहीं देना चाहती थी. इसके चलते दोनों भाइयों ने बीते गुरुवार रात को सोहनी देवी के घर जाकर गला दबाकर उसकी हत्‍या कर दी. बाद में घर में रखे जेवरात और रुपए भी पार कर ले गए. पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है कि उन्‍होंने गहने कहां छुपाएं हैं. हत्या की इस साजिश में क्या कोई और भी शामिल हैं?

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 15, 2022, 14:16 IST