2023 से पहले आदिवासी सीटों का अंतर कम कर पाएगी बीजेपी? क्या हैं राष्ट्रपति के शहडोल दौरे के मायने ?

0
19

भोपाल. मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का आदिवासी इलाके शहडोल का दौरा कई मायनों में अहम माना जा रहा है. ये दौरा चुनाव से पहले आदिवासियों को लुभाने के लिहाज से सबसे ज्यादा अहम है. आदिवासियों के भगवान माने जाने वाले बिरसा मुंडा की जयंती पर राष्ट्रपति के शहडोल दौरे से पहले बीते साल इसी मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजधानी भोपाल के जंबूरी मैदान में आयोजित जनजातीय गौरव दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए थे. उस वक्त भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आदिवासियों को लेकर कई बड़ी घोषणाएं की थीं.

पहले प्रधानमंत्री और अब राष्ट्रपति का जनजातीय गौरव दिवस पर मध्य प्रदेश आना इस बात के साफ संकेत हैं कि बीजेपी को किसी भी सूरत में आदिवासियों को लुभाना है. ऐसा इसलिए भी क्योंकि अकेले मध्य प्रदेश में देश की कुल आदिवासी आबादी का 14.7 फीसदी निवास करता है. एमपी विधानसभा की 84 ऐसी सीटें हैं जहां आदिवासी ही हार जीत में निर्णायक भूमिका अदा करते हैं. बीजेपी बीते विधानसभा चुनाव में आदिवासी वोट गंवाने का खामियाजा भुगत चुकी है.

क्या है सियासी गणित ?    
मध्य प्रदेश में आदिवासियों के लिए 47 सीटें आरक्षित हैं जबकि आदिवासी बहुल इलाके में 84 सीटें हैं. 2013 में बीजेपी को 84 में से 59 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. ये आंकड़ा  2018 में घटकर 34 सीटों पर आ गया था. यहां तक कि बीजेपी को सत्ता गंवानी पड़ी थी. आरक्षित सीटों का आंकड़ा देखें तो 2013 में 47 आरक्षित सीटों में से बीजेपी के पास 31 सीटें थीं जो 2018 में घटकर 16 रह गईं. ऐसे में 2023 से पहले आदिवासी इलाकों में अपनी ज़मीन मजबूत करना बीजेपी के लिए अहम हो गया है.

क्या है चुनौती ? 
आदिवासियों के बीच पैठ बनाना संघ के एजेंडे में शामिल रहा है. यही वजह है कि बीजेपी की सरकार इस वर्ग पर खास फोकस करती हैं. बीजेपी के लिए कांग्रेस के साथ साथ वो उभरते हुए नए संगठन चुनौती हैं जो आदिवासियों में तेजी से पैठ बना रहे हैं. इनमें जयस और गोंडवाना गणतंत्र जैसे संगठन हैं. इन संगठनों की राजनीति हिस्सेदारी ने भी बीजेपी के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं. यही वजह है कि प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति तक आदिवासियों के कार्यक्रमों में लगातार शिरकत कर रहे हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 15, 2022, 15:35 IST