55 साल में सिर्फ 40 महिलाएं ही चुनाव जीतकर पहुंची हिमाचल प्रदेश विधानसभा: CNN-News18 Analysis

0
25

शिमला. पहाड़ी राज्य हिमाचल में महिलाएं भी सियासी तौर पर पिछड़ी नजर आती रही हैं. हिमाचल विधानसभा चुनाव में पिछले 55 वर्षों की राजनीतिक पारियों की बात करें तो अब तक केवल 40 महिलाओं ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा में जगह बनाई है. सीएनएन-न्यूज 18 शो द्वारा विश्लेषण और आधिकारिक आंकड़ों को देखने पर पता चलता है कि यह यह संख्या कभी भी सदन की कुल संख्या के 10 प्रतिशत के आंकड़े को पार नहीं कर पाई.

चुनाव आयोग (ईसी) के आंकड़ों से पता चलता है कि 1967 में, जब राज्य में दो महिलाओं के साथ महिलाओं ने लड़ा था तो कोई भी सदन में नहीं पहुंची. 1967 के बाद से राज्य में कम से कम 206 महिलाओं ने विधानसभा चुनाव लड़ा है और इनमें से सिर्फ 40 ने ही सदन में जगह बनाई है. यह लगभग 20 प्रतिशत है. चुनाव आयोग के आंकड़ों से पता चलता है कि 50 प्रतिशत से अधिक – 105 महिलाओं की चुनाव में जमानत भी जब्त हो गई.

68 सदस्यीय विधानसभा ने 1998 में सदन के लिए चुनी गई महिलाओं की संख्या सबसे अधिक रही. चुनाव आयोग के आंकड़ों से पता चलता है कि छह महिलाओं ने चुनाव जीता था. 2007 को छोड़कर, जब पांच महिलाएं चुनी गई थीं, और 1998 में सदन ने प्रत्येक चुनाव में पांच से कम महिलाओं को निर्वाचित होते देखा है. 2012 के विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड संख्या में महिलाएं मैदान में थीं. इन 34 में से सिर्फ तीन ने सदन में जगह बनाई, जबकि 22 ने अपनी जमानत जब्त करा ली. 2017 में, 19 महिलाएं मैदान में थीं और इनमें से चार चुनाव जीतकर सदन में पहुंचने में कामयाब हो गईं.

अब तक किसी भी महिला मुख्यमंत्री को नहीं देखा है
राज्य ने अपने गठन के बाद से अब तक किसी भी महिला मुख्यमंत्री को नहीं देखा है. हिमाचल विधानसभा में 12 नवंबर को मतदान होना है और मतगणना 8 दिसंबर को होगी. इस बार राज्य में केवल 24 महिलाएं ही चुनाव लड़ रही हैं, जो 2017 की संख्या से थोड़ा अधिक है. इस बार मैदान में 24 महिलाओं में से छह भारतीय जनता पार्टी से हैं, जबकि पांच निर्दलीय हैं. कांग्रेस ने अपनी सूची में तीन महिलाओं का नाम लिया है. इस बार पांच महिलाओं को मैदान में उतारने वाली आम आदमी पार्टी भी मैदान में है. पिछले विधानसभा चुनाव में 2017 में बीजेपी को 44 सीटें मिली थीं, जबकि कांग्रेस को 68 में से 21 सीटें मिली थीं.