Alert! क्या भिंड में हो सकता है मोरबी हादसा? कोई गाड़ी निकले तो कांपता है यह बूढ़ा पुल, पिलर में क्रैक भी!

0
14

रिपोर्ट – अरविंद शर्मा

भिंड. नेशनल हाईवे 719 यानी भिण्ड-इटावा मार्ग पर क्वारी नदी का पुल क्षतिग्रस्त हो चुका है. इसकी मीयाद तो पूरी हो ही चुकी है, साथ ही अब इसमें क्रैक भी नज़र आ रहे हैं. ऐसे में कोई भी वाहन निकलता है तो पुल काँपने लगता है. क्वारी पुल पर रेत और गिट्टी से ओवरलोडेड डंपर एवं अन्य वाहन निकलने की वजह से कभी भी यह पुल धराशायी हो सकता है. इसके बावजूद प्रशासन की ओर से इसे ठीक करने की कोई मुस्तैदी नहीं दिख रही.

क्वारी नदी का पुल क्षतिग्रस्त काफी दिनों से है, इसकी जानकारी होते हुए आला अफसर भी मुंह फेरे हुए हैं. क्वारी नदी के पुल का निर्माण 1959 में हुआ था. उस समय निर्माण की लागत 9 लाख 39 हजार रुपये आई थी. इस पुल की मीयाद केवल 40 साल थी और पुल की उम्र 60 साल से भी ज़्यादा हो चुकी है. पुल का पहला पिलर क्रैक हो चुका है. अब ये पुल लोगों के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है.

रोज़ाना 30,000 से ज्यादा वाहन

इस पुल की मरम्मत का ज़िम्मा एमपीआरडीसी के पास है जबकि यह कंपनी इसे सालों से देखने तक नहीं आई. यह पुल उत्तर प्रदेश, दिल्ली, आगरा और कानपुर रूट के वाहनों के लिए अहम है. पुल से रोज़ाना छोटे-बड़े करीब 30 हजार वाहन निकलते हैं. ओवरलोड वाहनों की वजह से पुल को खतरा हुआ तो भिंड, इटावा, आगरा, कानपुर, लखनऊ, मैनपुरी, ग्वालियर का हाईवे से संपर्क कट जाएगा.

कनावर के हादसे से लिया जाना चाहिए सबक

ऊमरी क्षेत्र के कनावर में क्वारी नदी पर बना पुल 18 नवंबर 2014 को ओवरलोड वाहनों की वजह से टूट गया था. हादसे से एक माह पहले भारी वाहनों पर रोक लगा दी गई थी, लेकिन ओवरलोड वाहन लगातार निकलते रहे. यही वजह रही कि रेत गिट्टी से भरा वाहन निकलते ही पुल तीन टुकड़े होकर नदी में जा गिरा था. साथ में ट्रक भी गिरा था. ड्राइवर और क्लीनर गंभीर रूप से घायल हुए थे.

गौरतलब है कि पिछले दिनों गुजरात में मोरबी पुल​ हादसे के बाद से देश भर में चर्चा है कि पुल टूटने से सवा सौ से भी ज़्यादा जानें जा सकती हैं. ऐसे हादसों से भी सबक लेकर पुराने या खस्ताहाल पुलों की तरफ ध्यान दिए जाने की ज़रूरत बनी हुई है.

Tags: Bhind news, Bridge