Churu News: रतननगर कस्‍बे को कहा जाता है चूरू का पेरिस, जानें इतिहास और खासियत

0
14

पूर्वी -उत्तरी ब्लॉक में 14, पूर्वी – दक्षिणी ब्लॉक में 22, उत्तर पश्चिम में 8 व दक्षिण में 4 हवेलियां बनीं हैं.परकोटे की सुरक्षा के लिए कस्बे के चारों और चार बड़े मुख्य प्रवेशद्वार बनाए गए थे. कस्बे की सीमाएं चूरू, देपालसर,मेघसर, थैलासर,हणुतपुरा, ऊंटवालिया व बीनासर आदि गांवों से लगती हैं. कस्बे के चौराहे आपस में एक-दूसरे से मिलते हैं और सभी भूखंड 110 गुणा 220 साइज के हैं. हर चौराहे पर व परकोटे की भीतरी दीवार के पास के चारों तरफ खाली छोड़ी गई जमीन पर पीपल व नीम के पेड़ लगाए गए.