Gaya: बदहाल स्थिति में है 600 साल पुराना गुरुद्वारा, गुरु नानक देव जी से जुड़ा है इतिहास

0
18

कुंदन कुमार

गया. बिहार के गया को बुद्ध तथा भगवान विष्णु की नगरी के नाम से भी जानते हैं, लेकिन कम लोगों को पता होगा कि गया सिख सर्किट से भी जुड़ा हुआ है और यहां सिखों के प्रथम गुरु नानक देव जी का भी आगमन हो चुका है. भगवान विष्णु के पदचिन्ह विष्णुपद मंदिर के बगल में गुरु नानक देव जी का 600 वर्ष पुराना गुरुद्वारा है जहां उनका आगमन हुआ था, और अपने सिख धर्मावलंबियों को उन्होंने शिक्षा दी थी.

गया में गुरु नानक देव जी के आगमन के बाद सिख समुदाय की संख्या में वृद्धि हुई थी. आज यहां इनकी संख्या लगभग 1,000 के करीब है. गया शहर में दो गुरुद्वारे हैं जहां सिख समुदाय के लोग अरदास करते हैं. इनमें से विष्णुपद स्थित 600 साल पुराना गुरु नानक देव जी का गुरुद्वारा इन दिनों बदहाली के दौर से गुजर रहा है. रख-रखाव और देख-रेख के अभाव में इस गुरुद्वारे का भवन पूरी तरह जर्जर हो गया है. इससे सिखों के आस्था पर ठेस पहुंच रही है.

आपके शहर से (गया)

गया में गुरु नानक देव जी ने सिख धर्मावलंबियों को दी थी शिक्षा

बताया जाता है गुरु नानक देव जी जब उदासी के दौरान भ्रमण पर निकले थे तो उनका गया आगमन हुआ था. यहां चार दिन तक विष्णुपद मंदिर के ठीक बगल में सिख समुदाय के लोगों को उन्होंने शिक्षा दी थी. उसके बाद गया में सिख धर्मावलंबियों का संख्या बढ़ती गई और आज यह संख्या लगभग 1,000 के पास पहुंच गई है. इसके बावजूद सिख समुदाय से जुड़े गुरुद्वारों का यहां विकास नहीं हो पाया. और तो और, विष्णुपद स्थित गुरु नानक देव जी गुरुद्वारे की स्थिति बदहाल हो गई है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सिख समाज के विकास को लेकर काफी काम कर रहे हैं. लिहाजा गया के सिखों का मानना है कि आने वाले दिनों में ऐतिहासिक गुरु नानक देव जी गुरद्वारा का भी विकास होगा और यह पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा.

जीर्णोद्धार को लेकर पटना साहिब प्रबंधक कमेटी से चल रही वार्ता

वहीं, खालसा यूथ परिवार के संयोजक परमित सिंह बग्गा बताते हैं कि यह दुर्भाग्य है कि ऐतिहासिक गुरु नानक देव जी गुरुद्वारा की स्थिति काफी जर्जर है. बाहर से जब भी कोई संगत आता है और ऐतिहासिक गुरुद्वारा पहुंचते हैं तो वहां की बदहाल स्थिति को देखकर काफी ठेस पहुंचती है.

उन्होंने कहा कि पटना साहिब प्रबंधक कमेटी से इस ऐतिहासिक गुरुद्वारे का जीर्णोद्धार को लेकर बातचीत चल रही है. साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तक बात पहुंचाई गई है और उम्मीद है अगले तीन-चार साल में इस ऐतिहासिक गुरुद्वारा का जीर्णोद्धार होगा और यह एक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा.

Tags: Bihar News in hindi, Gaya news, Guru Nanak Jayanti, Gurudwara