Haldwani: सरकारी राशन की दुकानों पर गेहूं मिलना बंद, बाजार में आटे के बढ़ गए दाम

0
20

रिपोर्ट: पवन सिंह कुंवर

हल्द्वानी. उत्तराखंड में गेहूं की कीमत बढ़ने से आटे के दाम आसमान छूने लगे हैं. हल्द्वानी शहर की बात करें तो इन दिनों हल्द्वानी शहर में आटे के दाम 35 से 37 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए हैं. वहीं, अभी और आटे के दाम बढ़ने के आसार हैं. दूसरी तरफ सरकारी राशन की दुकानों पर पीले कार्ड धारकों को गेहूं मिलना बंद हो गया है. इसके बदले चावल दिया जा रहा है. बता दें कि केंद्र सरकार ने 2022-23 के लिए गेहूं का समर्थन मूल्य 2015 रुपये प्रति क्विंटल रखा है, लेकिन यह बाजार में 2800 रुपये प्रति क्विंटल मिल रहा है.

हल्द्वानी के पूर्ति निरीक्षक रवि सनवाल ने बताया कि गेहूं की कमी के चलते पीले राशन कार्ड धारकों को गेहूं के बदले चावल दिया जा रहा है. इस साल गेहूं की कमी है, इसी वजह से चावल दिया जा रहा है. वहीं, दुकानदार मनीष जोशी का कहना है कि इन दिनों आटे के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं और अभी प्रति किलो आटा 35 से 37 रुपये किलो तक बिक रहा है. पिछले कुछ दिनों में यह उछाल देखने को मिला है. महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है.

हल्द्वानी मंडी में गेहूं मिलना मुश्किल
अगर हम बात हल्द्वानी मंडी की करें तो मंडी में गेहूं मिलना भी मुश्किल हो रहा है, इसलिए अन्य जिलों की मंडी से गेहूं मंगाया जा रहा है. अन्य मंडियों में गेहूं के दाम 2750 से 2800 रुपये प्रति क्विंटल हैं, जिस कारण आटे के दाम लगातार बढ़ रहे हैं.

आपको बता दें कि रूस और यूक्रेन पूरे विश्व में करीब 40 प्रतिशत गेहूं की आपूर्ति करते हैं, लेकिन युद्ध के कारण यूक्रेन का गेहूं बाहर नहीं निकल पा रहा है. रूस में लगे प्रतिबंध के कारण रूस भी अपना गेहूं नहीं भेज पा रहा है. भारत सरकार ने गेहूं के निर्यात पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया था. इस कारण देश का कई हजार मीट्रिक टन गेहूं बाहर चला गया और पिछले वर्ष गेहूं की पैदावार भी कम रही थी. इस कारण गेहूं के दामों में बढ़ोतरी हो रही है.

Tags: APL ration card, BPL ration card, Haldwani news