Udaipur news: 21 हजार फीट कपड़े पर शहीदों के नाम लिख रहे ये दो लोग, जानिए क्यों?

0
14

उदयपुर: भारत में इस समय देश की आजादी का 75वां अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है.  इस आजादी के लिए हजारों लाखों गुमनाम शहीदों ने अपनी जान देकर देश को आजाद करवाया था. कुछ ही ऐसे शहीद हैं जिन्हें हम जानते हैं. लेकिन उदयपुर के रहने वाले मनोज आचलिया और सीमा वैध ने गुमनाम शहीदों के नाम और उनकी जीवनी लिखनी शुरू की है. इन्होंने 6 वर्ष में करीब 21 हजार फीट कपड़े पर इन गुमनाम शहीदों की जानकारी लिखी है.

मनोज अचलिया ने बताया कि हमारे देश में स्वतंत्रता संग्राम के दौरान हजारों लाखों शहीद ऐसे थे जो गुमनाम होकर भी देश की आजादी में अपनी भागीदारी निभा गए. नरेंद्र चंद्र दत्त, मधुसुधन, दल बहादुर थापा, दयाल सिंह, वीरेंद्र नाथ, लक्ष्मी थरे, अंबिका खान, रामा बामा कोली समेत ऐसे कई नाम हैं जिन्हें कोई नहीं जानता लेकिन इन्होंने अपनी विशेष भूमिका देश को आजाद कराने में निभाई थी.

21 हज़ार फीट कपड़े पर लिखे नाम
मनोज आचलिया और सीमा वैध ने 6 वर्ष में करीब 21 हजार फीट लंबे साटन के कपड़े पर इन गुमनाम शहीदों के नाम और जीवनी को लिखा है. अबतक देश के हजारों शहीदों के नाम वो इस पर लिख चुके हैं.

विभिन्न पत्र पत्रिकाओं, प्रकाशित आलेख एवं पुस्तकों में लिखे हुए वर्णन को लेकर उन्होंने देश भर के शहीदों की जानकारी जुटाई. इसके बाद कपड़े पर लिखने का यह कार्य शुरू किया गया. इसमें देश के अलग-अलग हिस्सों में जाकर वहां के शहीदों के बारे में इकट्ठा की गईं जानकारियां भी हैं.

सीमा वैध ने बताया कि देश की आजादी में महिलाओं की भी विशेष भूमिका थी. रानी लक्ष्मीबाई का नाम तो सभी जानते हैं. लेकिन कई ऐसी महिलाएं थीं जिन्होंने अपनी जान की बाजी लगाकर देश को आजादी दिलाई थी. ऐसे ही शहीदों के नामों को इस साटन के कपड़े पर उकेरा जा रहा है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : November 15, 2022, 12:51 IST