World COPD Day 2022: जानिए क्यों और कब मनाया जाता है वर्ल्ड क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज डे

0
17

हाइलाइट्स

इस वर्ष 16 नवंबर को सीओपीडी डे मनाया जाएगा.
इस बीमारी में लंग कैंसर होने का खतरा बढ़ सकता है.
सीओपीडी की समस्‍या समय के साथ बढ़ सकती है.

World Chronic Obstructive Pulmonary Disease Day: क्रॉनिक ऑब्‍सट्रक्टिव पल्‍मोनरी ऐसी समस्‍या है, जो फेफड़ों से आने वाली सांस यानी एयरफ्लो में रुकावट पैदा कर सकती है. बढ़ते वायुप्रदूषण और स्‍मोक के चलते कई प्रकार की सांस से संबंधित समस्‍याएं लोगों को परेशान कर रही हैं. इनमें से एक है क्रॉनिक ऑब्‍सट्रक्टिव पल्‍मोनरी डिजीज यानी सीओपीडी. इसे फेफड़ों की प्रोग्रेसिव डिजीज के रूप में भी जाना जाता है. ये बीमारी समय के साथ बढ़ सकती है. सीओपीडी से ग्रसित लोगों को हार्ट प्रॉब्‍लम और लंग कैंसर की स्थिति का सामना भी करना पड़ सकता है. हालां‍कि, इस बीमारी का इलाज यदि समय रहते किया जाए तो मरीज पूरी तरह से स्‍वस्‍थ्‍य हो सकता है. सीओपीडी से संबंधित जानकारी देने और उपचार के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए हर वर्ष नवंबर महीने के तीसरे बुधवार को वर्ल्‍ड क्रॉनिक ऑब्‍सट्रक्टिव पल्‍मोनरी डे मनाया जाता है. इस वर्ष से दिवस 16 नवंबर यानी बुधवार को मनाया जाएगा.

क्‍या है सीओपीडी?
सीओपीडी का मतलब है क्रॉनिक ऑब्‍सट्रक्टिव पल्‍मोनरी डिजीज. जब फेफड़ों से एयरफ्लो में रुकावट आती है तो इस खतरानाक फेफड़ों की स्थिति को सीओपीडी के रूप में जाना जाता है. इस समस्‍या के दौरान फेफड़ों के एयरवेज सिकुड़ जाते हैं, जिस वजह से सांस लेने में परेशानी या अन्‍य एक्टिविटी करने में मुश्किल आ सकती है.

सीओपीडी डे का इतिहास
सीओपीडी यानी क्रॉनिक ऑब्‍सट्रक्टिव पल्‍मोनरी डिजीज डे को हर साल नवंबर के तीसरे बुधवार को मनाया जाता है. इस दिन का आयोजन ग्‍लोबल इनिशिएटिव फॉर क्रॉनिक ऑब्‍सट्रक्टिव लंग डिजीज द्वारा विश्‍वभर में स्‍वास्‍थ्‍य कर्मचारियों और सीओपीडी रोगियों के सहयोग से सन् 2002 में किया गया. ये एक फेफड़ों से संबंधित बीमारी है, जिसकी रोकथाम के लिए इस दिन को पूरी दुनिया में मनाया जाता है.

यह भी पढ़ेंः पॉल्यूशन  से बढ़ रहा हार्ट अटैक का खतरा, डॉक्टर से जानें दिल को कैसे बचाएं

सीओपीडी डे मनाने का उद्देश्‍य
सीओपीडी ए‍क गंभीर बीमारी है, जो धीरे-धीरे फेफड़ों को डैमेज कर सकती है. जो व्‍यक्ति अधिक धूम्रपान करते हैं या धुएं के संपर्क में रहते हैं, उन्‍हें से समस्‍या हो सकती है. वायुप्रदूषण और धूल की वजह से सांस लेने में तकलीफ, अधिक खांसी और फेफड़ों में सूजन आ सकती है. वर्ल्‍ड सीओपीडी डे मनाने का मुख्‍य उद्देश्‍य लोगों को सांस से संबंधित समस्‍याओं के विषय में जानकारी मुहैया कराना है ताकि लोग समय रहते बीमारी का इलाज करा सकें. साथ ही लोगों को प्रदूषण से होने वाले रोगों और प्रदूषण की रोकथाम के प्रति जागरूक करना है.

यह भी पढ़ेंः पॉल्यूशन से बचाने में कितने कारगर हैं एयर प्यूरीफायर? एक्सपर्ट से जानें हकीकत

सीओपीडी डे 2022 की थीम
वर्ल्‍ड सीओपीडी डे यानी क्रॉनिक ऑब्‍सट्रक्टिव पल्‍मोनरी डिजीज डे को हर वर्ष एक सेलेक्‍टेड थीम के अनुसार मनाया जाता है. इस वर्ष यानी 2022 की थीम है- ‘आपके फेफड़े जीवन के लिए’. इस थीम का उद्देश्‍य फेफड़ों के स्‍वास्‍थ्‍य के महत्‍व को उजागर करना है.

बढ़ते प्रदूषण की वजह से बढ़ सकती हैं कई प्रकार की सांस से संबंधित समस्‍याएं. लोगों को स्‍वस्‍थ्‍य रहने के लिए इन समस्‍याओं के बारे में जानकारी हासिल करना जरूरी है. किसी भी समस्‍या के लक्षण आने पर डॉक्‍टर से संपर्क करें.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Health problems, Lifestyle